Home | Festivals | नवरात्र

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

नवरात्र

नवदुर्गा - स्त्री जीवन चक्र स्वरूप

‌‌‌हम साल में दो बार नवरात्र त्योहार मनाते हैं व आदिशक्ति देवी के नौ स्वरूपों की आराधना करते हैं। यही अलौकिक आदिशक्ति हमारे हर घर
Full story

नवरात्र

नवरात्र नवरात्रि की प्रामाणिक कथाएं वर्ष में दो बार क्यों मनाये जाते नवरात्रे नवरात्रि पर क्या न करें? प्रथम नवरात्र: शैलपुत्री द्वितीय नवरात्र: ब्रह्मचारिणी तृतीय नवरात्र: चन्द्रघण्टा चतुर्थ नवरात्र: कुष्माण्डा पंचम नवरात्र: स्कन्दमाता षष्टम...
Full story

वर्ष में दो बार क्यों मनाये जाते नवरात्रे

किसी भी धर्म में कोई भी त्योहार यूं ही नहीं मनाया जाता। हर त्योहार के पीछे कोई न कोई ऐतिहासिक महत्व होता ही है, पर...
Full story

नवम नवरात्र: सिद्धिदात्री

नवरात्र ‌‌‌के आखिरी दिन यानी नौवे दिन माँ दुर्गा के नौवे स्वरूप सिद्धिदात्री का पूजन किया जाता है। यह दुर्गा माँ की नौवीं शक्ति है।...
Full story

अष्टम नवरात्र: महागौरी

नवरात्र के आठवें दिन माँ दुर्गा के आठवें स्वरूप महागौरी का पूजन किया जाता है। यह दुर्गा माँ की आठवीं शक्ति है। वर्ण गौर व...
Full story

सप्तम नवरात्र: कालरात्रि

नवरात्र के सातवे दिन माँ दुर्गा के सातवें स्वरूप कालरात्रि का पूजन किया जाता है। ये काल का नाश करने वाली है, इसलिए इनको कालरात्रि...
Full story

षष्टम नवरात्र: कात्यायनी

नवरात्र के छटे दिन माँ दुर्गा के छटे स्वरूप कात्यायनी का पूजन किया जाता है। ये वैद्यनाथ नामक स्थान पर प्रकट होकर पूजी गयीं। एक पौराणिक...
Full story

पंचम नवरात्र: स्कन्दमाता

नवरात्र के पांचवें दिन माँ दुर्गा के पांचवे स्वरूप स्कन्दमाता का पूजन किया जाता है। श्री स्कन्द (कुमार कार्तिकेय) की माता होने के कारण इन्हे...
Full story

चतुर्थ नवरात्र: कुष्माण्डा

नवरात्र के चौथे दिन माँ दुर्गा के चौथे स्वरूप कुष्माण्डा देवी का पूजन किया जाता है। अपने उदर से ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारण...
Full story

तृतीय नवरात्र: चन्द्रघण्टा

दुर्गा का तीसरा स्वरूप चन्द्रघण्टा है। इनके मस्तक पर घण्टे के आकार का अर्धचन्द्र है, इसी कारण इन्हें चन्द्रघण्टा देवी कहा जाता है। इनके शरीर...
Full story

द्वितीय नवरात्र: ब्रह्मचारिणी

दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी है। यहां ब्रह्मचारिणी का अर्थ तपश्चरिणी है। ब्रहमचारिणी का अर्थ है तप का आचरण करने वाली है। इनके दाएं हाथ...
Full story

प्रथम नवरात्र: शैलपुत्री

प्रथम नवरात्र को माँ के पहले स्वरूप यानि शैलपुत्री की पूजा-अर्चना होती है। हिमालय के यहाँ पुत्री रूप में जन्म लेने के कारण इनका नाम...
Full story

नवरात्रि पर क्या न करें?

हर कोर्इ चाहता है कि देवी की पूजा पूरी श्रद्धा-भक्ति से हो ताकि परिवार में सुख-शान्ति बनी रहे। आर्इए जानते हैं, माता के नौ दिनों...
Full story

नवरात्रि की प्रामाणिक कथाएं

नवरात्रि से संबंधित कर्इ कथाएं प्रचलन में हैं, जो इस प्रकार हैं: 1. एक पौराणिक कथा के अनुसार नवरात्रि में माँ दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षक...
Full story

नवरात्र

माँ जगदम्बा दुर्गा के नौ रूप मनुष्य को शान्ति, सुख, वैभव, निरोगी काया एवं भौतिक आर्थिक इच्छाओं को पूर्ण करने वाले हैं। माँ अपने बच्चों...
Full story
total: 15 | displaying: 1 - 15