Home | Change Direction With Direction | शौचालय

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

शौचालय

Font size: Decrease font Enlarge font

आज के युग में घर में शौचालय एक अभिन्न अंग है। शौचालय का घर में एक सही दिशा में होना अतिआवश्यक है।

1. उत्तरउत्तर में शौचालय अच्छा है।

2. उत्तर-पूर्वउत्तर-पूर्व में शौचालय अच्छा नही है। इस दिशा में शौचालय होने से सुख-समृधि की कामना नही की जा सकती है। पारिवारिक रिस्ते प्रभावित होंगे, बीमारीयों का घर में तांता लगा रहेगा, घर में दवाईयों का थैला भरा रहेगा, आपके डाक्टर के पास चक्कर लगते रहेंगे। आपको हमेशा शरीर के ऊपरी हिस्सों में बीमारीयाँ रहेंगी जैसे कि मानसिक तनाव, कंधों में दर्द, सिर से सम्बन्धित समस्याएं घर में रहेंगी। कैंसर तक की नौबत आ सकती है। आपको मालूम भी नही पड़ेगा कि आपका व्यवसाय कहाँ से कहाँ गिर गया। बच्चे नही पढ़ेंगे, उनका मानसिक व शारीरिक विकास रूक जाएगा, उनको चोट पे चोट देखने को मिलेगी, बच्चे होशियार होते हुए भी परीक्षा में वाँछनीय अंक प्राप्त नही कर पाएंगे। घर का मुखिया कर्जे में रहेगा, वह मानसिक तनाव में रहेगा। नौकरी में स्थिरता नही आएगी। आप नौकरी बदलते रहेंगे। कईं मामलों में घर के मुखिया (पुरूष) की अकाल मृत्यु भी हो सकती है।

3. पूर्वयदि इस दिशा में शौचालय बना हुआ है तो यह ठीक सी वाली स्थिती है, अगर सम्भावना है तो इसको दूसरी जगह बनाने की कोशिश करें। यदि पूर्व में शौचालय बना हुआ है तो पूर्व की दिशा से आप इसका पूरा सम्भावित अच्छा प्रभाव नही ले पाएंगे।

4. दक्षिण-पूर्वयदि अकेला शौचालय बनाते हैं तो यह किसी हद तक ठीक है लेकिन यदि आप शौचालय के साथ स्नानघर बनाते हैं तो यह हानिकारक है। यदि आप इस दिशा में शौचालय व स्नानघर बनाते हैं तो घर की महिलाओं का स्वास्थ्य खराब रहेगा जैसे कि उनकी दायीं भूजा में दर्द या अन्य कुप्रभाव देगा। इस दिशा में शौचालय होने से घर के रिस्तों में दरार होगी जैसे कि पति-पत्नि, पिता-पुत्र, या सारे परिवार के रिस्तों में दरार आ जाएगी। व्यवसाय में घाटा होगा।

यदि आपने शौचालय व स्नान घर इक्कट्ठे बनाए हैं तो यह नौजवान लड़के के स्वास्थ्य को खराब करेगा, उसकी शारीरिक व मानसिक वृद्धि को कम करेगा, उसके व्यवसाय या नौकरी को बुरी तरह से प्रभावित करेगा।

5. दक्षिणदक्षिण दिशा में शौचालय हो सकता है।

6. दक्षिण-पश्चिमदक्षिण पश्चिम में शौचालय नही होना चाहिए। यहाँ पर शौचालय होने से आमदनी अठ्ठनी खर्चा रूपया जैसी स्थिती उत्पन्न होती है। कमाई होती रहती है लेकिन खर्चा बढ़ता रहता है।

7. पश्चिमपश्चिम में शौचालय उत्तर-पश्चिम के बाद द्वितीय क्रम का है।

8. उत्तर-पश्चिमउत्तर-पश्चिम में शौचालय प्रथम क्रम का है।

9. केन्द्रकेन्द्र में शौचालय उत्तर-पूर्व से भी खराब है।

<< दिशा से दशा बदलो - विषय

Tags
No tags for this article
Rate this article
0