Home | ‌‌‌योग | नाड़ीशोधन प्राणायाम

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

नाड़ीशोधन प्राणायाम

Font size: Decrease font Enlarge font

 

पर्यायवाची: अनुलोम-विलोम प्राणायाम

इस प्राणायाम की मुख्य विशेषता यह है कि बाएं एवं दाएं नासिकारन्ध्रों के द्वारा एकान्तर रूप से श्वास प्रश्वास रोके श्वासन करना चाहिए।

शारीरिक यथास्थिती: कोर्इ भी ध्यानात्मक आसन।

अभ्यास विधि:

* सर्व प्रथम किसी भी ध्यानात्मक आसन में बैठना चाहिए।

* मेरूदण्ड की अस्थि एवं सिर को सीधा रखें तथा आँखें बंद होनी चाहिए।

* कुछ गहरी श्वासों के साथ शरीर को शिथिल करना चाहिए।

* ज्ञान मुद्रा में बार्इं हथेली बाएं घुटने के ऊपर रखनी चाहिए। दायां हाथ नासाग्र मुद्रा में होना चाहिए।

* अनामिका एवं कनिष्ठिका अंगुली बार्इं नासिक पर रखनी चाहिए। मध्यमा और तर्जनी अंगुली को मोड़कर रखें। दाएं हाथ का अंगुठा दार्इं नासिका पर रखना चाहिए।

* बार्इं नासिका से श्वास ग्रहण करें। इसके बाद कनिष्ठिका और अनामिका अंगुलियों से * बार्इं नासिका बंद कर देनी चाहिए। दार्इं नासिका से अंगुठा हटाकर दार्इं नासिका से बाहर छोड़ना चाहिए।

* तत्पश्चात् एक बार दार्इं नासिका के द्वारा श्वास ग्रहण करनी चाहिए।

* श्वासोच्छ्वास के अंत में, दार्इं नासिका को बंद करें, बार्इं नासिका खोलें तथा इसके द्वारा श्वास बाहर छोड़ दें।

* यह पूरी प्रक्रिया नाड़ीशोधन या अनुलो-विलोम प्राणायाम का एक चक्र है।

* यह पूरी प्रक्रिया पांच बार दोहरार्इ जानी चाहिए।

अनुपात एवं समय

* प्रारम्भिक अभ्यासियों के लिए श्वासोच्छ्वास की क्रिया की अवधी बराबर होनी चाहिए।

* धीरे-धीरे इस श्वासोच्छ्वास क्रिया को क्रमश: 1:2 कर देना चाहिए।

श्वसन

* श्वसन क्रिया मंद, समान एवं नियन्त्रित होनी चाहिए। इसमें किसी प्रकार का दबाव या अवरोध नही होना चाहिए।

लाभ:

इस प्राणायाम का मुख्य उद्देश्य शरीर में ऊर्जा का वहन करने वाले मुख्य स्रोतों का शुद्धिकरण करना है। अत: यह अभ्यास पूरे शरीर का पोषण करता है।

मन में निश्चलता लाता है तथा शान्ति प्रदान Share on: Post on Facebook Facebook Add to your del.icio.us del.icio.us Digg this story Digg StumbleUpon StumbleUpon Twitter Twitter

Tags
No tags for this article
Rate this article
5.00