Home | ‌‌‌योग | प्रार्थना

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

प्रार्थना

Font size: Decrease font Enlarge font

अभ्यास के लाभ में अधिक वृद्धि के लिए योग अभ्यास प्रार्थना के मनोभाव के साथ शुरू करना चाहिए।

ऊँ संगच्छध्वं संवदध्वं

सं वो मनांसि जानताम्

देवा भागं यथा पूर्वे

सञ्जानाना उपासते।।

अर्थात हम सब साथ गमन करें, हम सब साथ एक सुर में बोलें, हम सब साथ अपने मन को समचित्त बनाएं, जैसा कि पूर्व में था, आइए र्इश्वरत्व को अपनी एपासना में झलकने दें।

Tags
No tags for this article
Rate this article
0