Home | ‌‌‌आहार विज्ञान | कार्बोज की अधिकता का प्रभाव, Effect of excessive intake of carbohydrates

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

कार्बोज की अधिकता का प्रभाव, Effect of excessive intake of carbohydrates

Font size: Decrease font Enlarge font

कार्बोहाइे्रटकार्बोहाइे्रट्स का वर्गीकरणमोनोसैक्राइडडाइसैक्राइडपोलीसैक्राइडकार्बोज की प्राप्ति के साधनकार्बोज़ के कार्यकार्बोज़ की कमी का प्रभावकार्बोज की अधिकता का प्रभाव; कार्बोज की दैनिक ‌‌‌आवश्यकता

-------------------------------------------------

1.  हृदय सम्बन्धी विकार (Heart related Problems): ‌‌‌आवश्यकता से अधिक कार्बोज लेने से ‌‌‌अभिशोषित ग्लूकोज की अतिरिक्त मात्रा यकृत तथा ‌‌‌माँसपेशियों में ग्लायकोजन के रूप में एकत्रित हो जाती है। मात्रा और अधिक बढ़ने से कार्बोज वसा के रूप में त्वचा के नीचे स्थित एडीपोज ऊतकों (Adipose tissues) में जमा हो जाते हैं। इससे शरीर का भार बढ़ जाता है मथा मोटापा (Obesity) आ जाता है। मोटापे से मधुमेह (Diabetes), एथेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis) तथा अन्य कर्इ रोग की होने की संभावना बढ़ जाती है। एथेरोस्क्लेरोसिस नामक रोग से रक्त वाहिनियों में वसा जम जाता है जो रक्त वाहिनियों को कड़ा कर देती है।

वाहिनियों में रक्त परिवहन के लिए स्थान कम रह जाता है। इससे हृदय सम्बन्धी विकार उत्पन्न होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

2. मधुमेह (Diabetes): - क्लोम (Pancreas) के कोशें से इन्सुलिन (insulin) नामक एक हारमोन निकलता है। ग्लूकोज का उपापचयन इन्सुलिन पर निर्भर करता है। शरीर में इन्सुलिन की कमी होने से ग्लूकोज का ग्लायकोजन में परिवर्तन नहीं होता । सामान्यता भूख के समय 100 मिली लिटर रक्त में ग्लूकोज का मात्रा 80-120 मिली ग्राम होती है। (80-120mg/100mg/ of blood) कार्बोज की मात्रा बढ़ने से इन्सुलिन की मात्रा का अनुपात कम हो जाता है। इसलिए मोटे व्यक्ति को मधुमेह रोग दूसरे व्यक्तियों की अपेक्षा जल्दी होने की संभावना होती है।

3. दातों में सड़न (Dental Caries): - मीठे कार्बोज युक्त पदार्थ जैसे टॉफी, चॉकलेट, गाोली, मिठार्इ आदिसे दांतों में सड़न पैदा होती है तथा कीड़ा लग जाता है क्योंकि इनका कुछ अंश दांतों में चिपका रह जाता है। मीठे भोज्य पदार्थो के कुप्रभाव से बचने के लिए इनके सेवन के पशचात दांतों में बुश करने की आदत डालनी चाहिए।

4. पाचन में कठिनता (Difficulty in digestion): - कार्बोज की अधिक मात्रा लेने से इसका कुछ भाग आंतों में रह जाता है जो सड़कर गन्दी वायु तथा उत्तेजक अम्ल बनाता है। इससे पाचन में कठिनता तथा अतिसार की संभावना हो जाती है। पेट फूल सकता है तथा पानी की प्यास बार-बार लगती है।

‌‌‌अन्य समस्याएं जो कार्बोहाइड्रेट्स की अधिकता से शरीर में होती हैं। (‌‌‌English version - यहाँ पर क्लिक करें)

‌‌‌सरोज बाला, ‌‌‌कुरूक्षेत्र (‌‌‌हरियाणा

Tags
No tags for this article
Rate this article
0