Home | ‌‌‌आहार विज्ञान | कार्बोज की प्राप्ति के साधन, Souces of Carbohydrates

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

कार्बोज की प्राप्ति के साधन, Souces of Carbohydrates

Font size: Decrease font Enlarge font

कार्बोहाइे्रटकार्बोहाइे्रट्स का वर्गीकरणमोनोसैक्राइडडाइसैक्राइडपोलीसैक्राइडकार्बोज की प्राप्ति के साधन; कार्बोज़ के कार्यकार्बोज़ की कमी का प्रभावकार्बोज की अधिकता का प्रभावकार्बोज की दैनिक ‌‌‌आवश्यकता

-------------------------------------------------

वैसे तो कार्बोज बहुत से भोज्य पदार्थों में पाये जाते हैं किन्तु हम अपनी दैनिक ऊर्जा का काफी भाग अनाजों से प्राप्त करते हैं क्योंकि हमारे भोजन में अनाज की मात्रा अधिक होती है। निम्न आय वर्ग तो अपनी दैनिक ऊर्जा का लगभग 80% भाग कार्बोज से प्राप्त करता है। अनाज तथा जड़ वाली सब्जियों में स्टार्च के रूप में 70% कार्बोज होते हैं जबकि फलीदार पौधों के सूखे बीजों में स्टार्च 40% के लगभग होती है। मीठे फलों जैसे अंगूर, चीकू, केला, सेब, गन्ना आदि में मीठी शर्करा बहुतायत में होती है। इससे पता चलता है कि कार्बोहाइट्रेट्स की प्राप्ति के दो प्रकार हैं - (1) शर्करा (2) स्टार्च

 शर्करा प्राप्ति के साधन (Sources of Sugar): - शर्करा हमें मीठे पदार्थों जैसे चीनी, गुड़, शक्कर, शहद, किशमिश, खजूर, मुन्नका, मीठे फलों, ‌‌‌है। मेवों आदि से प्राप्ति होती है।

स्टार्च प्राप्ति के साधन (Sourves of starch): - सभी प्रकार के अनाज जैसे चावल, मक्का, ‌‌‌गेहूँ, चना आदि; जड़ वाली सब्जियां जैसे आलू, कचालू, शकरकन्दी, अरबी, जिमीकन्द आदि; सूखी फलीदार सब्जियां जैसे मटर, सेम, राजमा, सोयाबीन आदि; सभी दालें।

विभिन्न भोज्य पदार्थों में कार्बोज की मात्रा प्रति 100 ग्राम

भोज्य पदार्थ

कार्बोज की मात्रा

अनाज

 

‌‌‌गेहूँ

71.2

चावल

78.2

बाजरा

67.5

आटा

69.4

मैदा

73.9

डबल रोटी

51.9

अरारोट

83.1

दालें

 

राजमा

60.6

उड़द की दाल

59.6

चने की दाल

59.8

धुली मूंग

59.5

सब्जियां

 

शकरगन्दी

28.2

जिमीकन्द

26.0

आलू

22.6

अरबी

21.1

मीठे पदार्थ

 

चीनी

99.4

गुड़

95.0

शहद

79.5

शक्कर

99.8

सूखे मेवे

 

बादाम

10.5

काजू

22.3

मूंगफली

20.3

किशमिश

75.0

‌‌‌सरोज बाला, ‌‌‌कुरूक्षेत्र (‌‌‌हरियाणा)

Tags
No tags for this article
Rate this article
0