Home | ‌‌‌आहार विज्ञान | कार्बोहाइे्रट्स का वर्गीकरण, Classification of Carbohydrates

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

कार्बोहाइे्रट्स का वर्गीकरण, Classification of Carbohydrates

Font size: Decrease font Enlarge font

कार्बोहाइे्रट; कार्बोहाइे्रट्स का वर्गीकरण; मोनोसैक्राइडडाइसैक्राइडपोलीसैक्राइडकार्बोज की प्राप्ति के साधनकार्बोज़ के कार्यकार्बोज़ की कमी का प्रभावकार्बोज की अधिकता का प्रभावकार्बोज की दैनिक ‌‌‌आवश्यकता

-------------------------------------------------

कार्बोज कार्बन, हाइड्रोजन तथा ऑक्सीजन का समिश्रण हैं। इनमें हाइड्रोजन तथा ऑक्सीजन 2:1 के अनुपात में होते हैं। पानी में हाइड्रोजन तथा ऑक्सीजन का यही अनुपात होने के कारण इन्हे हाइड्रेट्स ऑफ कार्बन (Hydrates of carbon) या कार्बोहाइड्रेट्स (Carbohydrates) कहा जाता है। साधारण कार्बोज में कार्बन तथा पानी के अणुओं की संख्या बराबर होती है। इनका रासायनिक सूत्र Cn(H2O)n है। जब दो सरल कार्बोज के अणु जुड़ जाते हैं तो पानी का एक अणु निकल जाता है तथा जटिल शर्करा का निर्माण होता है। जटिल कार्बोज का रासायनिक सूत्र Cn(H2O)n-1 है। ’n’ से अभिप्राय कार्बन परमाणुओं की संख्या से है। कार्बोहाइड्रेट्स का वर्गीकरण (Classification of Carbohydrates) इस प्रकार है: -

मोनोसैक्राइड (Monsaccharides) - ग्लूकोज, फ्रक्टोज, गैलेक्टोज

डाइसैक्राइड (Disaccharides) - ‌‌‌सुक्रोज, माल्टोज, लेक्टोज

पोलीसैक्राइड (Polysaccharides) - सेल्यूलोज, स्टार्च, ग्लायकोजन, पैक्टिन, डैक्सट्रिन

‌‌‌सरोज बाला, ‌‌‌कुरूक्षेत्र (‌‌‌हरियाणा)

Tags
No tags for this article
Rate this article
0