Home | आयुर्वेद संग्रह | ‌‌‌आर्युवैदिक क्वाथ

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

‌‌‌आर्युवैदिक क्वाथ

क्षुद्रादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह कफ-वातज्वर, अरूचि, पार्श्वशूल यूक्त ज्वर, श्वास, कास, न्यूमानिय आदि में लाभकारी है। मात्रा व अनुपान: -
Full story

स्तन्यशोधक क्वाथ

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से उपदंश, सूजाक व माताओं के दूध का शोधन उत्तम प्रकार से होता है। मात्रा व अनुपान: -...
Full story

सारिवादि हिम

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से गप्तांगों की फोड़े-फुंसीयां, चकते, खारिश आदि में लाभ मिलता है। यह चर्म रोगों में लाभ प्रदान करता है। मात्रा...
Full story

षडंगपानिय

गुण व उपयोग: - यह सब प्रकार के ज्वरों में लाभकारी है। मात्रा व अनुपान: - 20 से 30 ग्राम, दिन में दो बार अथवा आवश्यकतानुसार।...
Full story

रज:प्रवर्तक कषाय

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से लम्बे समय से रूका हुआ मासिक धर्म खुलकर आता है। मात्रा व अनुपान: - 20 से 30 ग्राम, दिन...
Full story

रास्नासप्तक क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह आमवात, कमर, जांघ, पीठ व पसली का दर्द एवं वात-संबंधी पेट दर्द में लाभ प्रदान करता है। मात्रा व अनुपान: -...
Full story

मूत्रल कषाय

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से गुर्दे की तकलीफ के कारण शरीर में आर्इ सूजन में विशेष लाभ मिलता है। पथरी के कारण होने...
Full story

महामंजिष्ठादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह महाकुष्ठ, क्षुद्र कुष्ठ, वातरक्त, घाव, जलन, उपदंश, पक्षाघात, नेत्ररोग, श्लीपद (फीलपाँव), शरीर पर लाल-लाल चकत्ते पड़ जाना, अर्दित तथा रक्त...
Full story

मांस्यादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह हिस्टीरिया, आक्षेप, अनिद्रा, मस्तिष्क क्षोभ आदि में लाभदायक है। मात्रा व अनुपान: - 20 से 40 ग्राम, दिन में दो बार...
Full story

महारास्नादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह सर्वांग वात, अर्धांग वात, आध्मान, अर्दित, एकांग वात, शुक्रदोष, सन्धिवात, मेदागत वात, कम्प वात, श्लीपद, अपतानक, अन्त्रवृद्धि, ग्रध्रसी, आमवात, योनिरोग...
Full story

मधुकादि हिम

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से आधे सिर का दर्द, पित्तवृद्धि-जनित शिर:शूल, मन्द ज्वर, जुकाम, सिर-दर्द, श्वास, कास, कफ वृद्धि विकार में उत्तम लाभ...
Full story

भार्ग्यादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से कफ, ज्वर, न्यूमोनिय, श्वास, सन्निपात ज्वर, सूखी खांसी आदि में लाभ मिलता है। मात्रा व अनुपान: - 20 से...
Full story

भूनिम्बादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह मातीझारा, मन्दज्वर, मधु ज्वर, अतिसार, श्वास, कास, रक्तपित्त आदि रोगों में शीघ्र लाभ करता है। मात्रा व अनुपान: -...
Full story

वरूणादि कषाय

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से पथरी, मूत्रकृच्छ, वृक्कशूल, बस्तिशूल आदि में लाभ मिलता है। मात्रा व अनुपान: - 20 से 40 ग्राम, दिन में...
Full story

पुनर्नवाष्टक क्वाथ (पुनर्नवादि क्वाथ)

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से सूजन, पेट के रोग, जोड़ों का दर्द, यकृत एवं प्लीहा की वृद्धि में शीघ्र लाभ मिलता है। यह...
Full story

पंचभद्र क्वाथ

गुण व उपयोग: - इसका उपयोग पित्तज्वर में किया जाता है। मात्रा व अनुपान: -...
Full story

प्रमेहहर क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह प्रमेह, मूत्रकृच्छ, मूत्राघात आदि में लाभ करता है। मात्रा व अनुपान: -...
Full story

पथ्यादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - इसका सेवन मुख्यत: सिरदर्द में किया जाता है। मात्रा व अनुपान: - 20 से 40 ग्राम, दिन में दो बार अथवा आवश्यकतानुसार।...
Full story

पटोलादि क्वाथ

गुण व उपयोग: - यह मुख्यत: ज्वर नष्ट करने में उपयोग किया जाता है। मात्रा व अनुपान: - 20 से 40 ग्राम, दिन में दो बार...
Full story

प्रतिश्यायघ्न क्वाथ

गुण व उपयोग: - इसके सेवन से सभी प्रकार के जुकाम शीघ्र ठीक होते हैं व इसकी वजह से हुए ज्वर में भी लाभ मिलता...
Full story
1 2 3 next total: 41 | displaying: 1 - 20