Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

गाजर

Font size: Decrease font Enlarge font

यदि कच्ची गाजर को काटकर देखते हैं तो यह आँख की तरह दिखायी देती है। इसमें बीटा-कैरोटीन, वीटामिन (जैसे वीटामिन ए व सी) व खनिज लवण प्रचुर मात्रा में होते हैं। बीटा-कैरोटीन, वीटामिन ‘ए‘ का मुख्य स्त्रोत है, जो आपकी आँखों की रोशनी को अच्छा रखने में सहायक होता है। इसलिए कहा जा सकता है ‘आँख जैसी गाजर, बढ़ाती है रोशनी‘।

गाजर के आहारीय गुण

  • गाजर के जूस में वीटामिन ‘ए‘ व ‘सी‘ प्रचुर मात्रा में होते है, जो शरीर में एन्टीऑक्सीडैन्ट की भूमिका अदा करते हैं। इससे रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। विटामिन ‘ए‘ आँखों की रोशनी के लिए बहुत आवश्यक होता है। गाजर के जूस का नियमित सेवन से बीमारीयाँ को दूर रखने में सहायक होता है।
  • गाजर में पोटाशियम तत्व होता है जो शरीर में कॉलेस्ट्राल की मात्रा को कम करता है। इस प्रकार गाजर के जूस का नियमित सेवन आपको दिल की बीमारीयों से भी बचाकर रखता है। दिल की कमजोरी अथवा धड़कने बढ़ जाने पर गाजर को भूनकर खाने से लाभ होता है। गाजर में मौजूद पोटाशियम ब्लड प्रेषर को नियन्त्रित रखता है।
  • गाजर में यकृत (लीवर) को रखने के गुण होते हैं। गाजर का जूस लीवर को ताकत देकर उसकी काम करने की क्षमता को बढ़ाता है। गाजर पीलीया रोग को ठीक करने की प्राकृतिक औषधी है। गाजर का जूस वजन कम करने में भी सहायता करता है। गाजर के रस में ऊर्जा (कैलोरी) की मात्रा बहुत कम होती है। प्रतिदिन गाजर का सलाद खाने या जूस पीने से चेहरे पर चमक आती है। इसके सेवन से कील मुंहासों से भी छुटकारा मिलता है।
  • गाजर में पोटाशियम, मैगनीज व मैगनिशियम होते हैं जो ब्लड शुगर के स्तर को सामान्य रखने में सहायक होते हैं। इस प्रकार गाजर शरीर में डायबिटीज के खतरे को कम करती है।
  • गाजर में वीटामिन ‘ए‘ होता है जो चोट लगने पर रक्त के जमने में सहायता करता है और खून को बहने से रोकता है। यह चोट को ठीक करने में कारगर है। गाजर में मौजूद वीटामिन ‘ए‘ घाव को ठीक करने के साथ-साथ मसूड़ों को स्वस्थ रखने में सहायता करता है।
  • गाजर के जूस में कैंसर से लड़ने के गुण भी होते हैं। इसमें कैरोटीनायड नाम का एक खास तत्व होता है जिसे प्रोस्टेट, कॉलन और स्तन कैंसर से लड़ने में बहुत ही कारगर समझा जाता है।
  • गाजर का जूस शरीर में प्रोटीन की कमी को भी पूरा करने के साथ-साथ शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम भी प्रदान करता है जो हड्डीयों को मजबूती देता है।
  • गाजर का जूस बच्चे के गर्भावस्था के लिए बहुत लाभकारी है। इसके उपयोग से बच्चे और माँ, दोनों के स्वास्थ्य में सुधार होता है। गाजर के जूस से माँ के दूध की मात्रा व गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी होती है। यदि गर्भवती माँ गाजर के रस का सेवन करती है तो यह गर्भ में पल रहे शिशु को संक्रमण से बचाता है।
  • गाजर में मौजूद विटामीन ‘ए‘ शुक्राणओं व अण्डाणु की गुणवत्ता में सुधार करने में कारगर है।
  • गाजर में बहुत सारा फाइबर होता है। यदि आपको पाचन सबन्धी समस्या है तो हर रोज दो गाजर खाएं, इससे आपका पेट एकदम सही रहेगा व कब्जी की शिकायत नही रहेगी।
  • गाजर खाने से हड्डीयाँ मजबूत होती हैं क्योंकि इसमें कैल्शियम व विटामिन ‘सी‘ होता है। गठिया रोग को दूर करने के लिए हर रोज एक गाजर का सेवन किया जा सकता है।

गाजर अपने खास गुणों के कारण लगभग हर डाइट प्लान का हिस्सा बन सकती है।

Tags
No tags for this article
Rate this article
5.00