Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

सोमेश्वर रस

Font size: Decrease font Enlarge font

गुण व उपयोग: सोमेश्वर रस के सेवन से प्रमेह, अर्श रोग, विद्रधि और चिर कालीन सोमरोग, मूत्राघात, मूत्रकृच्छ, कामला, हलीमक, भगन्दर, उपदंश, अनेक प्रकार की पिडिकायें, व्रण विस्फोट, अर्बुद, कण्डू, वात-पित्त, यकृत-प्लीहोदर, गुल्म रोग, आदि में उत्तम लाभ मिलता है। सोमेश्वर रस के सेवन से सोमरोग नष्ट होते हैं और वात प्रमेह में यह शीघ्र लाभ करता है।

मात्रा व अनुपान: 1-1 गोली, दिन में दो बार शहद या नारीयल पानी के साथ।

Tags
No tags for this article
Rate this article
0