Home | आयुर्वेद संग्रह | आयुर्वेदिक रस | सूतिकाविनोद रस (बृहत्)

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

सूतिकाविनोद रस (बृहत्)

Font size: Decrease font Enlarge font

गुण व उपयोग: यह प्रसूत रोग की प्रसिद्ध औषधी है। इसके सेवन से प्रसूत ज्वर, अजीर्ण, शूल, मलबन्ध आदि वातरोगजन्य विकार नष्ट हो जाते हैं।

मात्रा व अनुपान: 1-1 गोली दिन में दो बार, गाय के दूध या दशमूल क्वाथ के साथ।

Tags
No tags for this article
Rate this article
0