Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

बसन्ततिलक रस

Font size: Decrease font Enlarge font

गुण व उपयोग: बसन्ततिलक रस के सेवन से वातव्याधि, अपस्मार, विसूचिका, उन्माद तथा सभी प्रकार के प्रमेह का नाश होता है। यह बाजीकरण और वीर्यवर्द्धक भी है। यह परम पौष्टिक है।

मात्रा व अनुपान: 1 से 2 गोली, दिन में दो बार शहद मिले हुए गिलोय रस या शतावरी के रस के साथ।

Rate this article
0