Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

गदमुरादि रस

Font size: Decrease font Enlarge font

गुण व उपयोग: गदमुरादि रस के सेवन से पुराने विषम ज्वर, रस गत ज्वर, पित्त गत ज्वर एवं सही चिकित्सा न होने के बिगड़े सन्निपात व विषम ज्वर में शीघ्र लाभ मिलता है। क्षय कर प्रारम्भिक अवस्था में भी इसका सेवन उत्तम लाभ प्रदान करता है।

मात्रा व अनुपान: 1-1 गोली, दिन में दो बार सुखोष्ण पानी के साथ या अदरक रस के साथ अथवा तुलसी के पत्तों का स्वरस के साथ या रोगानुसार उचित अनुपान के साथ।

Rate this article
0