Home | स्वास्थ्य | ‌‌‌नारी स्वास्थ्य | भ्रूण अवरण द्रव शिशु के सही विकास के लिए

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

भ्रूण अवरण द्रव शिशु के सही विकास के लिए

Font size: Decrease font Enlarge font

गर्भवती होना हर माँ के लिए सबसे बड़ी खुशी का दिन होता है। इस दौरान गर्भवती माँ के अंदर शिशु गर्भाशय में स्थित एक तरल पदार्थ की थैली के अंदर सुरक्षित रहते है। इस तरल पदार्थ को भ्रूण अवरण द्रव (Amniotic Fluid) कहा जाता है। यह तरल पदार्थ भ्रूण को लगने वाली किसी भी प्रकार की चोट से रक्षा करता है और उसके शारीरिक विकास में सहायक होता है। इसके अलावा यह भ्रूण को कई प्रकार के संक्रमण से बचाने, पाचन तंत्र और फेफड़ों के सही तरह से बनने में मदद करता है।

भ्रूण अवरण द्रव शिशु के अंदर हॉर्मोन्स, पोषक तत्त्व और एंटीबॉडीज का निर्माण करता है। इसके अन्य फायदे इस प्रकार हैं:

यह बच्चे को स्वस्थ रखता है।

भ्रूण अवरण द्रव को निगलकर भ्रूण अपने पाचन तंत्र को विकसित करने का अभ्यास करता है।

यह बच्चे की मासपेशियों के विकास में मदद करता है।

यह चिकनाई की तरह भी काम करता है, जो पैर और हाथों की उंगलियो और नाखूनों के विकास में सहायक होता है।

यह भ्रूण के विकास के लिए गर्भाशय का सही तापमान बनाये रखने में भी सहायक होता है।

यह तरल पदार्थ भ्रूण के सही तरह से साँस लेने और साँस छोड़ने के लिए फेफड़ों के सही तरह से विकास में मदद करता है।

गर्भाशय में भ्रूण अवरण द्रव के विश्लेषण से यह पता लगाया जा सकता है की भ्रूण का विकास सही तरह से हो रहा है या नही। इसके साथ ही इसके द्वारा किसी आनुवांशिक दोष के बारे में भी पता लगा जा सकता है।

यह बच्चे और माँ के स्वास्थ के लिए अच्छा माना जाता है और इसकी कमी होने पर यह दोनों के लिए ख़तरा भी हो सकता है।

Rate this article
5.00