Home | स्वास्थ्य | ‌‌‌नारी स्वास्थ्य | महिलायें रखें अपने दिल का ख्याल

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

महिलायें रखें अपने दिल का ख्याल

Font size: Decrease font Enlarge font

महिलाओं में दिल की बीमारी कब लग जाती है, उन्हें यह पता ही नहीं चलता। महिलायें दिल के रोग के लक्षणों को नज़रअंदाज़ कर देती है जिससे बाद में उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अत: उन्हें अपने दिल के प्रति सतर्क रहना चाहिए।

महिलाओं को अपने दिल के प्रति अधिक सजग रहना चाहिए

महिलायें अधिकतर घबराहट या हृदय रोगों के सूचक चिह्नों को नज़रअंदाज़ कर देती हैं व बहुत कम ही चिकित्सक से सलाह लेती हैं।

अगर कभी वे परामर्श लेती भी हैं तो लक्ष्णों में थोड़ा आराम मिलने पर तुरन्त इलाज बन्द कर देती हैं।

शोध में कामकाजी व घरेलू महिलाओं में हृदय रोगों के प्रति जागरूकता व हृदय रोग के ख़तरे के बारे में चौंकाने वाले तथ्य सामने आये हैं।

अधिकांश चिकित्सकों ने माना कि कामकाजी महिलायें अपने हृदय के स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हैं।

अधिकांश चिकित्सकों ने यह भी कहा कि कामकाजी महिलाओं में हृदय रोग की सम्भावनाएं अधिक हैं। क्योंकि कामकाजी महिलायें कार्य व घर की जि़म्मेदारियों दोनों के बीच तालमेल बैठाती हैं। इस वजह से वे तनाव और अस्वास्थकारी जीवनशैली के प्रति अधिक खुली हैं।

घरेलू महिलाओं की अपेक्षा कामकाजी महिलाओं में हृदयप्रणाली रोगों के होने का खतरा भी अधिक है।

घर के काम के बोझ व खुद की देखभाल की कमी के चलते घरेलू महिलाओं में इस खतरे को कम नहीं आंका जा सकता है।

Rate this article
5.00