Home | स्वास्थ्य | ‌‌‌नारी स्वास्थ्य | महिलाओं के स्वास्थ से जुडी कुछ बातें

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

महिलाओं के स्वास्थ से जुडी कुछ बातें

Font size: Decrease font Enlarge font

सेहत के मामले में महिलाओं और पुरुषों में काफी अंतर होता है। भारतीय महिलाएं अपनी सेहत का ख्याल न रखने की आदत के लिए जानी जाती हैं। फिर भी महिलाओं की सेहत के खतरों को टाला जा सकता है यदि उन लक्षणों को ठीक समय पर पहचान लिया जाए। निम्नलिखित बातें मालूम होने पर आप आपनी सेहत को सही रख सकती हैं:

डाइटिंग (Dieting): एक अध्ययन के अनुसार एक महिला अपनी पूरी ज़िन्दगी में से 17  वर्ष वज़न कम करने की कोशिश में बिता देती है। वजन कम करने के लिए डाइट में बदलाव करना ज़रूरी है किन्तु इतनी सनक भी नहीं होनी चाहिए कि आप स्वयं को भूखा रखें। सभी उम्र की महिलाओं को कुछ ख़ास पोषक तत्वों की ज़रूरत पुरुषों से ज्यादा होती है किन्तु सनकी आहार (Fad diet) से सही पोषक-तत्व नहीं मिलते।

व्यायाम की कमी (Lack of Exercise): शोधों से यह पता चला है 29% वयस्क लोग व्यायाम नहीं करते। इस में से करीब 34% यानी एक-तिहाई महिलाओं में शारीरिक गतिविधियों की कमी पाई गई। जबकि उन्हें कम से कम 30 मिनट हलका- फुलका व्यायाम अवश्य करना चाहिए। जो महिलाएं उम्र के आधे पड़ाव में व्यायाम करती हैं वो अपने आपको ओस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis), डिप्रेशन (Depression), कैंसर और मोटापे से बचा लेती हैं।

व्यवधान पूर्ण नींद या अनिद्रा (Sleep Disruption or Insomnia): महिलाएं अत्यंत संवेदनशील होती हैं जिसका असर उनकी सेहत पर आता है। तनाव,पारिवारिक जिम्मेदारियां, भय, मेन्स्त्रुअल परेशानी, मेनोपॉज और प्रेगनेंसी महिलाओं में अनिद्रा के मुख्य कारण हैं। इन्हीं कारणों से माइग्रेन, क्रोनिक डिप्रेशन, हाइपरटेंशन, मोटापा, हाई कोलेस्ट्रोल एवं ह्रदय रोग होते हैं।

शराब (Alcohol): शराब की लत महिलाओं के लिए ज्यादा हानिकारक है क्योंकि इससे स्थायी हार्मोनल बदलाव होते हैं जो कि उचित नहीं हैं। जो नवयुवतियां शराब का सेवन करती हैं उनमें गर्भावस्था से सम्बन्धित परेशानियां पनपती हैं जो गर्भस्थ शिशु को भी नुक्सान पहुंचाती हैं।

धूम्रपान (Smoking): एक शोध में पाया गया है कि धूम्रपान करने वाले पुरुषों की संख्या घटी है लेकिन धूम्रपान करने वाली महिलाओं की संख्या में अंतर नहीं आया है। धूम्रपान से महिलाएं सिर्फ अपनी ही नहीं बल्कि आने वाली पीढ़ियों की सेहत का भी नुक्सान कर रही हैं।

दवाइयां (Medicines): पुरुषों के मुकाबले महिलाएं अपनी दवा खुद करने में माहिर होती हैं। एक शोध के अनुसार महिलाएं ऐसा करती हैं क्योंकि वे इमोशनल डिसऑर्डर से ज्यादा ग्रस्त होती हैं।

Tags
No tags for this article
Rate this article
0