Home | पशु पालन

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

पशु पालन

गर्भाश्य में मवाद पड़ जाना, पायोमेट्रा (Pyometra)

पायोमेट्रा में पशु के गर्भाश्य में ‌‌‌मवाद (pus) इकट्ठी हो जाती है। ‌‌‌लक्षण: इसमें पशु ‌‌‌मद में नहीं आता तथा समय-समय पर उसकी योनि से सफेद
Full story

गर्भाश्य शोथ (मेट्राइटिस, एन्डोमेट्राइटिस)

गर्भाश्य शोथ का अर्थ है गर्भाश्य में सूजन का होना यह सूजन दो प्रकार की होती है - मेट्राइटिस ‌‌‌व एन्डोमेट्राइटिस। मेट्राइटिस (metritis) का अर्थ...
Full story

पशु का मद में न आना, Anoestrous

यौवनावस्था प्राप्त करने के बाद मादा पशु में मद चक्र आरंभ हो जाता है तथा यह चक्र सामान्यत: तब तक चलता रहता है जब तक...
Full story

मादा पशु का बार-बार गर्मीं में आना, रिपीट ब्रिडिंग, Repeat Breeding

रिपीट ब्रिडिंग की ऐसी समस्या है जिसमें मादा पशु दो या दो से अधिक बार गर्भाधान करने के बावजूद गर्भधारण नहीं कर पाता तथा अपने...
Full story

मल उत्सर्जन (गोबर व मूत्र) प्रबन्धन

सदियों से गाँवों में औरतें पर्व-त्योहारों या शुभ अवसरों पर गोबर से (खासतौर से गाय के गोबर) समूचे घर-आंगन की लिपाई-पुताई करती हैं और गोबर...
Full story

पशु चिकित्सा विज्ञान में प्रयुक्त शब्दावली

‌‌‌आक्षेपहारी (Antispasmodics): - वे औषधियाँ जो पेट की ऐंठन व मरोड़ को दूर करती हैं। ‌‌‌उद्दीपक (Stimulants): - ये औषधियाँ शरीर के विभिन्न अंगों में तत्काल...
Full story

आपदाओं के दौरान पशु प्रबन्धन

आपदा कई प्रकार की होती हैं जैसे कि सूखे के कारण अकाल, बाढ़, अग्नि दुर्घटनाएँ, खतरनाक सामग्रियाँ व रसायन, जो हमें व हमारें पशुधन को...
Full story

हरियाना गाय

गृह स्थान (Home tract): इसका मूल जन्म स्थान भारत का हरियाणा राज्य है। वितरण क्षेत्र (Area of distribution): यह नस्ल हरियाणा के रोहतक, झज्जर, हिसार, करनाल,...
Full story

‌‌‌पशुओं में सर्रा रोग (Surra in Animals)

पर्यायवाची: ट्रिपैनोसोमिएसिस, पेठा रोग, अफ्रीकन निंद्रा रोग (मनुष्यों में)  विवरण: यह पशुओं की एक घातक बीमारी है जिसमें पशु को अति तीव्र बुखार से लेकर कम तीव्र...
Full story

खेरीगढ़ (Kherigarh Cattle)

गृह स्थान (Home tract): इस नस्ल का गृह स्थान उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खेड़ी जिला है। ‌‌‌इस नस्ल का नामकर्ण ‘खेड़ीगढ़’ गांव के नाम से...
Full story

चारे में पोषण विरोधी तत्व - प्रकाश संवेदनशील तत्व (Photosensitive)

प्रकाशीय गतिशील तत्व (Photdynamic)  जीगर सम्बन्धि प्रकाशीय तत्व (Hepatogenic photosensitization) सम्पर्कीय त्वचा संवेदनशीलता (contact dermatitis) < चारे में पोषण विरोधी तत्व (Anti-nutritional Factors in Ration)  ...
Full story

चारे में पोषण विरोधी तत्व - खनिज लवण (Minerals)

सेलेनियम (Selenium) मोलिब्डेनम (Molybedanum) सीलिका (Silica) < चारे में पोषण विरोधी तत्व (Anti-nutritional Factors in Ration)...
Full story

चारे में पोषण विरोधी तत्व - नाईट्रेट व नाईट्राईट (Nitrate and Nitrite)

रूमेन के सूक्ष्म जीव नाईट्रेट को नाईट्राईट में परिवर्तित करते हैं।  पौधों की पत्तियों व तनों में ज्यादा नाईट्रेट होते हैं। यह ज्वार व सूडैक्स...
Full story

चारे में पोषण विरोधी तत्व - ग्लाईकोसाईड (Glycosides)

Ø  स्यानोजेनिक (Cyanogenic) ग्लाईकोसाईड स्यानोजेनिक ग्लाईकोसाईड रूमेन में बीटा-ग्लाईकोसीडेज व लाईएज एन्जाईम की सहायता से हाईड्रोसायनिक एसीड में परिवर्तित होते हैं जिससे जुगाली करने वाले पशु ज्यादा...
Full story

चारे में पोषण विरोधी तत्व - गैर प्रोटीन विषाक्त एमाईनो एसीड (Non protein toxic amino acids)

पौधों के पत्तों व बीजों में कई प्रकार के गैर प्रोटीन एमीनो एसीड पाए जाते हैं। उष्णकटीबन्धिय क्षेत्रों में ये गैर प्रोटीन विषाक्त एमीनो एसीड...
Full story

चारे में पोषण विरोधी तत्व (Anti-nutritional Factors in Ration)

पोषण विरोधी तत्व वे तत्व हैं जो स्वयं या चपापचय उत्पादों के माध्यम से भोजन के उपयोग में हस्तक्षेप कर पशुओं के स्वास्थय व उनके...
Full story

पशुओं का संतुलित आहार (Balanced Ration in Animals)

दाना मिश्रण की मात्रा अलग-अलग श्रेणी के पशुओं व हरे चारे की किस्म व गुणवत्ता पर निर्भर करती है। दाना मिश्रण तैयार करते समय निम्नलिखित...
Full story

मौलिक पोषक तत्व - विटामिन्स (Vitamins)

विटामिन भी पशुओं के शारीरिक विकास और ताकत के लिए बहुत जरूरी हैं। दूध दे रहे पशु के शरीर में दूध द्वारा विटामिन भी दूध...
Full story

मौलिक पोषक तत्व - खनिज तत्व (Minerals)

यह देखने में आ रहा है कि दूधारू पशुओं के शरीर में खनिजों की काफी कमी आ रही है। खनिज, पशु को कुछ हद तक...
Full story

मौलिक पोषक तत्व - वसा (Fat)

यह पशु के शरीर में शक्ति पैदा करती है। यह हरे चारे जैसे कि सरसों, तोड़ीया आदि जैसे खल, बिनौले आ​दि से मिलती है। यह...
Full story
back 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 next last total: 318 | displaying: 81 - 100