Home | कटाई, सिलाई और कढ़ाई (Cutting, Tailoring & Embroidery)

Sections

Newsletter
Email:
Poll: Like Our New Look?
Do you like our new look & feel?

कटाई, सिलाई और कढ़ाई (Cutting, Tailoring & Embroidery)

हाथ कढ़ाई में बेसिक टाँके (Basic Stitches in Hand Embroidery)

डण्डी टाँका (Stem Stitch) चेन स्टिच (Chain Stitch) साटन स्टिच (Satin Stitch) बैक स्टिच (Back Stitch) बटन होल स्टिच (Button Hole Stitch) हैरिेग बोन स्टिच (Harring Bone Stitch) कश्मीरी साटन स्टिच
Full story

सिंधी कढ़ाई व शीशा वर्क

सिंधी कढ़ाई सजावट के लिए वस्त्रों पर करते हैं। यह केवल हाथ से होती है। शीशा वर्क हाथ व मशीन दोनों से हो जाता है।...
Full story

शेडो वर्क (Shadow Work)

यह एक ऐसी कढ़ाई है जिसमें अधिकत्तर टाँके उल्टी ओर से लिऐ जाते हैं। जिसकी सीधी तरफ से परछाई नजर आती है। इसीलिए इसे शेडो...
Full story

शीशा वर्क (Mirror Work)

यह देखने में बहुत सुन्दर लगता है। यह किसी भी वस्त्र पर लगाया जा सकता है। आवश्यक सामग्री: शीशा, सूई, धागा, फ्रेम, कपड़ा व छोटी कैंची। बनाने...
Full story

शेड वर्क (Shade Work)

कपड़े की सीधी साईड पर एक ही रंग के भिन्न-भिन्न शेडों को मिलाकर छोटे-बड़े टाँके की सहायता से जो कार्य किया जाता है उसे शेड...
Full story

जाली टाँका (नेट वर्क – Net Work)

नेट वर्क की एक ऐसी कढ़ाई है जा एपलिक से मिलती-जुलती है। नेट वर्क में नेट कपड़े के नीचे रखा जाता है। उसके बाद उसे...
Full story

एपलिक वर्क (Applique Work)

एक कपड़े के ऊपर दूसरा कपड़ा रख कर जो काम किया जाता है उसे एपलिक वर्क कहते हैं। आवश्यक सामग्री: सूई, धागा, कपड़ा, फ्रेम व तेज...
Full story

हार्ड हैंगर स्टिच

इस कढ़ाई में कपड़े की एक ओर तारें निकाल कर शेष तारों को सफेद या रंगीन धागों से बांध कर सुन्दर डिजाईन बनाये जाते हैं। आवश्यक...
Full story

फुलकारी स्टिच (Phulkari Stitch)

पंजाब में प्राचीन काल से शादी आदि में फुलकारी आदि ओढ़ने का प्रचलन रहा है। फुलकारी एक ऐसा कसीदा है जिसमें कपड़ों को कढ़ाई द्वारा...
Full story

चोप स्टिच

यह गिनती की कढ़ाई का एक टाँका है। किसी भी डिजाईन को बनाने के लिए और मध्य में पटड़ी टाँका या सूती टाँका या जोन...
Full story

ए.सी.सी. स्टिच (A.A.C. Stitch)

ए.सी.सी. कढ़ाई का आरम्भ सबसे पहले जर्मनी, ईटली व यूरोप में हुआ था। परन्तु भारत में भी इसका बहुत प्रचलन है। यह कढ़ाई घर-धर में...
Full story

क्रॉस स्टिच (Cross Stitch)

क्रॉस स्टिच कढ़ाई का प्रयोग या आरम्भ सबसे पहले जर्मनी, इटली, यूरोप हुआ था। परन्तु भारत में भी इसका प्रचलन बहुत है। यह कढ़ाई घर-घर...
Full story

जोन व पटड़ी स्टिच

जोन स्टिच में टाँका छोटा और बड़ा लिया जाता है। य​दि बड़ा टाँका 8 तारें व छोटा टाँका 4 तारें लेकर बनाया है तो टाँके...
Full story

फैदर स्टिच (Feather Stitch)

इसमें भी बटन होल टाँके की भान्ति ही टाँका किया जाता है। सीधी लाईन पर उपर से नीचे की ओर साईडों पर टाँके लेने से...
Full story

सिप्पी स्टिच

सिप्पी स्टिच बनाने के बाद यह टाँका गाँठ की तरह दिखायी देता है। यह टाँका फूल-पत्तियों की आऊट लाईन के ऊपर बनाया जाता है। आवश्यक सामग्री:...
Full story

बन्द टाँका (Closed Stitch)

यह टाँका फूल-पत्तियों में बनाया जाता है। यह एक रंग तथा शेड में भी बनाया जाता है। कुछ मध्य प्रकार के रंग जिसमें हमें शेड...
Full story

बुलियन स्टिच (Bullion Stitch)

यह गाँठ टाँके की एक किस्म है। यह हाथ की कढ़ाई का टाँका है। इस कढ़ाई से छोटे-छोटे फूल-पत्तियाँ बनाई जाती हैं। यह टाँका बूर...
Full story

छोटा-बड़ा टाँका (Small-Large Stitch)

यह टाँका फूल व पत्तियों में बनाया जाता है। यह एक रंग तथा शेड में भी बनाया जाता है। इस टाँके को बनाने के लिए...
Full story

कश्मीरी टाँका (Kashmiri Stitch)

जैसा कि नाम से ही प्रतित होता है कि इसका आरम्भ कश्मीर से हुआ था। कश्मीर के कचनार के पत्ते, केसर के फूल अधिकत्तर इसी...
Full story

लेडी-डेजी टाँका (Lady Daisy Stitch)

यह चेन स्टिच की एक किस्म जो चेन टाँका लेने से बनती है। इस टाँके द्वारा फूल-पत्तियों को सजाया जाता है। आम भाषा में इस...
Full story
1 2 next total: 29 | displaying: 1 - 20